Mon - Sat: 10:00AM - 6:30PM

Successful Women Investors in Hindi: भारतीय महिला निवेशक


भारत की 5 प्रेरणादायक महिला इनवेस्टर्स जिन्होंने स्टार्टअप से बनायी पहचान

कोई भी देश यश के शिखर पर तब तक नहीं पहुंच सकता, जब तक उस देश की महिलाएं कंधे से कंधा मिला कर न चलें...

इस बात को भारत ने भी काफी सकारात्मकता के साथ लिया है. आज भारत की महिलाएं घर की रसोई से निकलकर अपने सपनों को पूरा करने के लिए एक लंबे सफर की तरफ चलने लगी है. आज भारत की बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था में महिलाएं भी उतना ही सहयोग कर रही हैं जितना की पुरूष कर रहे हैं. घर चलाने के साथ ही देश चलाने की जिम्मेदारी भी महिलाएं बखूबी निभा रही हैं.

आज आपको हम ऐसी ही पांच महिलाओं के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने अपने आत्मबल और मेहनत से जो मुकाम हासिल किया है उससे न सिर्फ खुद के सपने पूरे किए है बल्कि उनसे देश को भी गौरवांवित किया है...

बाला देशपांडे (BALA DESHPANDE)

बाला देशपांडे का नाम देश की सशक्त महिलाओं में शुमार है. 2012 में फोर्ब्स कांजेक्यूटिव (FORBES CONSECUTIVE) ने बाला देशपांडे का नाम भारत की 50 सबसे शक्तिशाली व्यवसायिक महिलाओं में शामिल किया था. उन्होंने यूनिवर्सिटी ऑफ मुंबई (UNIVERSITY OF MUMBAI ) से इकॉनामी में पोस्ट ग्रेजूएशन किया है. इसके बाद उन्होंने जमनालाल बजाज इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट स्टडिज़ (JAMNALAL BAJAJ INSTITUTE OF MANAGEMENT STUDIES) में मैनेजमेंट स्टडिज़ की पढ़ाई भी की.

Baladeshpandey

बाला देशपांडे 2008 से न्यू इंटरप्राईज़ ऐसोसिएट्स इंडिया प्राईवेट लिमिटेड (NEA - NEW ENTERPRICES ASSOCIATES INDIA PVT LTD) के साथ जुड़ कर सीनियर मैनेजिंग डायरेक्टर (SENIOR MANAGING DIRECTOR) के पद पर काम कर रही हैं. इससे पहले बाला देशपांडे आईसीआईसीआई वेंचर (ICICI VENTURE) के साथ जुड़कर इनवेस्टिंग में काम का अनुभव ले चुकी हैं. वहां पर उन्होंने इनवेस्टमेंट करने वाली कंपनियों के भविष्य को सवारने की दिशा में काफी काम किया.

बाला देशपांडे आईसीआईसीआई (ICICI VENTURE) से पहले आजतक (AAJ TAK), शोपर्स स्टॉप (SHOPPERS STOP), नागार्जुन कंस्ट्रकशन (NAGARJUN CONSTRUCTION), ऐयर डेकन (AIR DECCON), और टैक प्रोसेस सोल्यूशन (TECH PROCESS SOLUTON) जैसी कंपनियों की ऑन बोर्ड डॉयरेक्टर भी रह चुकी हैं. बाला देशपांडे को 27 सालों का कार्य अनुभव है और लगभग 17 साल तो उन्होंने इनवेस्टिंग में ही काम किया है.

बाला देशपांडे का परेशानियों को सुलझाने का अपना अलग ही अंदाज है. उनका मानना है कि सपने और विचार चाहे किसी के भी हों, लेकिन दुनिया की तरक्की में योगदान हर किसी का होना चाहिए.

अंकिता वशिष्ठ (ANKITA VASHISHTHA)

अंकिता वशिष्ठ भी स्टॉर्ट-अप को प्रोत्साहन और महिलाओं को बढ़ावा देने के क्षेत्र में एक जाना माना नाम है. अंकिता इलैक्टॉनिक और कम्यूनिकेशन इंजीनियर है. उन्होंने यूके (UK) के क्रैनफिल्ड स्कूल ऑफ मैनेजमैंट (CRANFIELD SCHOOL OF MANAGEMENT) से फाईनैंन (FINANCE) में पोस्ट ग्रेजूएशन किया है.

ankitavashishta

अंकिता ने ओरेअस कैपिटल अबराज ग्रुप (AUREOS CAPITAL ABRAAJ GROUP), थालोंस कैपिटल (THOLONS CAPITAL) और थालोंस कंसलटैंसी (THOLONS CONSULTANCY) के साथ जुड़ कर काम किया और थालोंस कैपिटल में मैनेजिंग पार्टनर के तौर पर भी काम किया. इकोसिस्टम को अच्छे से समझने के लिए उन्होंने इंडिया ऐंजल इनवेस्टर (INDIA ANGEL INVESTOR) के साथ भी काम किया. अंकिता ने लगभग 8 सालो तक यूएस (U.S.), यूके (U.K.), सिंगापुर (SINGAPORE), फिलिपींस (PHILIPPINES) और भारत इनवेस्टमेंट कंपनी के साथ अपनी कार्यक्षमता को निखारा.

इस दौरान अंकिता ने महिलाओं के लिए एक अलग किस्म की मानसिकता को देखा. उन्होंने देखा कि अगर किसी कंपनी की फाउंडर कोई महिला है या किसी महिला के पास कंपनी का महत्वपूर्ण पद है तो महिलाएं सामने आकर बोलने से परहेज करती है. अगर किसी कंपनी की मालिक कोई महिला होती है तो इनवेस्टर उसमें इनवेस्ट नहीं करते हैं या करते हैं तो पूरे भरोसे के साथ नहीं करते हैं.

अंकिता साहा फंड (SAHA FUND) की सीईओ और फाउंडर (CEO & FOUNDER) हैं. साहा फंड भारत का पहला वेंचर कैपिटल फंड (VENTURE CAPITAL FUND) है.

साहा फंड हुनरमंद महिलाओं के हुनर को आगे बढ़ाने और बिना रूके उनके सफर को जारी रखने में मदद करता है.

मीता मल्होत्रा (MEETA MALHOTRA)

बैंग्लूरू की रहने वाली मीता मल्होत्रा एक्टिव ऐंजल इनवेस्टर है और कई स्टॉर्ट-अप कंपनियों की मेंटर भी है. मीता केस्टार्ट (KSTAST) और कलारी कैपिटल्स सीड स्टेज फंड की सलाहकार (ADVISOR) भी है. अनेकों महिलाओं की प्रेरणा बन चुकी मीता ने अपने करीयर की शुरूआत इंफोसिस (INFOSYS) के साथ जुड़ कर की थी. कई साल इंफोसिस में अपनी क्षमताओं को निखारने के बाद REY+KESHAVAN आर्गेनाइजेशन की पार्टनर भी रह चुकी हैं. REY+KESHAVAN एक डिसाइन और ब्रांडिंग एजेंसी है. ऐयरटैल (AIRTEL), कोटेक महिंद्रा बैंक (KOTAK MAHINDRA BANK), मदर डेयरी (MOTHER DAIRY), टाईटैन (TITAN), फोर्टिस (FORTIS), मैक्स (MAX), आदित्या बिरला (ADITYA BIRLA), विस्तारा ऐयरलाइंस (VISTARA AIRLINES) और अनेकों ब्रैंड्स को क्रिएट (CREAT) करने का अधिकार मीता मल्होत्रा के पास ही था.

meetamalhotra

मीता मल्होत्रा वराना (VARANA ) के साथ मिलकर काम कर रही है. मीता नारी प्रोत्साहन पर कहती है कि – सबसे पहले आप खुद को समझिए और अपनी ताकत और कमजोरी को पहचानियें. अपनी ताकत को कैसे बढ़ाना है और कमजोरियों को कैसे दूर करना है इसके बारे में लगातार सीखते रहने की जरूरत है.

मीता स्टॉर्ट-अप, नारी प्रोत्साहन के लिए और बिज़नेस करने की चाह रखने वाले लोगों के लिए meetamalhotra.com साइट पर लोगों द्वारा बिज़नेस से जुडे हुए सवालों का जवाब देती हैं. वेबसाइट पर स्टॉर्ट-अप में आने वाली परेशानियां, बिज़नेस के लिए रणनीतियां और नए बिज़नेस जैसे सवालों का जवाब और सुझाव दिया जाता है. इसके अलावा भी मीता नए स्टॉर्ट-अप की प्लानिंग करने में लगी हैं.

देबजानी घोष (DEBJANI GHOSH)

देबजानी भी एक्टिव ऐंजल इंवेस्टर्स में से एक हैं.  उन्होंने इनवेस्टमेंट की शुरूआत आईएएन (IAN – INDIAN ANGEL NETWORK) और आईएएन फंड (IAN FUND) के साथ जुड़ कर की. देबजानी सोशल ऐप्लीकेशन इनक्लोव (INCLOVE) में भी इंवेस्टर है. इनक्लोव दुनिया की पहली ऐसी मैचमेकिंग (MATCHMAKING) ऐप्लीकेशन है, जो विकलांग (DIFFERENTLY ABLED PEOPLE), बीमार लोगों को दूसरे लोगों से क्नेक्ट करने में मदद करती है.

debjanighos

इसके अलावा देबजानी इंटेल (INTEL) की वाईस प्रेसीडेंट (VICE PRESIDENT) और इंटेल साऊथ (INTEL SAUTH ASIA) ऐशिया की मैनेजिंग डॉयरेक्टर (MANAGING DIRECTOR) रह चुकी हैं. उन्होंने इंटेल में अपने करियर की शुरूआत 1996 में की थी और अपने 21 साल के कार्यकाल में उन्होंने कंपनी में कई महत्वपूर्णों पदों को संभाला और अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया.

फिलहाल देबजानी घोष नासकोम (NASSCOM – NATIONAL ASSOCIATION OF SOFTWARE AND SERVICES COMPANIES) की अध्यक्ष हैं और फिक्की की सलाहकार भी हैं. इतना ही नहीं वर्तमान समय में ही देबजानी यस बैंक (YES BANK) की स्वतंत्र बोर्ड ऑफ डॉयरेक्टर भी हैं.

इनवेस्टिंग और बिज़नेस के मामले में देबजानी नारी समझ को ज्यादा बेहतर मानती है. देबजानी कहती है कि महिलाएं ग्राउंड रिएलिटी से जुड़ी हुई होती है इसलिए वह किसी भी समस्या को आसानी से सुलझा सकती हैं. वह मानती है महिला उघमी कहीं ज्यादा बेहतर होती है और नारी किसी भी ऑर्गेनाईजेशन को अच्छी तरह से संभाल सकती है और चला भी सकती हैं.

आरती गुप्ता (AARTI GUPTA)

डॉ आरती गुप्ता आईआईटी कानपुर (IIT KANPUR) से इकॉनामी (ECONOMY) में डॉक्टेरेट (DOCTORATE) की उपाधि से सम्मानित हैं. इसके अलावा आरती गुप्ता ने हार्वर्ड यूनिवर्सिटी (HARWARD UNIVERSITY) से बिज़नेस स्टडींज में डिप्लोमा (DIPLOMA IN BUSINESS STUDIES) और नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी (NORTHEASTERN UNIVERSITY) से इकॉनामिक्स में मास्टर डिग्री (MASTERS IN ECONOMICS) हासिल की है. वैसे तो जागरण मीडिया समूह (JAGRAN MEDIA GROUP) में सात साल तक आरती गुप्ता ने मैनेजिंग ऑफिसर (MANAGING OFFICER) का काम किया है लेकिन इनकी पहचान केवल इतनी ही नहीं है. आरती खुद की ऐंजल इनवेस्टिंग कंपनी (ANGEL INVESTING COMPANY ) में चीफ इनवेस्टमेंट ऑफिसर (CHIEF INVESTMENT OFFICER) की भूमिका निभा रही हैं.

आरती अपने शब्दों में नारी सम्मान और प्रोत्साहन में कहती हैं कि अपने आस-पास सुधार के लिए उत्सुक रहो,  इसलिए नहीं की आज के हालात काफी खराब है बल्कि इसलिए क्योकि आपको आशावादी होना चाहिए और आपकी मदद से ही भविष्य बेहतर बन सकता है.

यह थी पांच ऐसी महिलाएं जो नारी कम्यूनिटी के लिए प्रेरणादायक व्यक्तित्व हैं, इन सभी से प्रेरणा लेकर समाज को नारी की हिस्सेदारी को आगे बढ़ाने और उसकी सराहना करने की जरूरत है.

By Soniya