Mon - Sat: 10:00AM - 6:30PM

Interim Budget 2019


आईपीओ (IPO-initial public offering) , कोई भी कंपनी जब पहली बार स्टॉक मार्केट में लिस्ट होती है, तो वो आईपीओ इश्यू करती है। आईपीओ के जरिए कंपनी लोगों से फंड उठाती  है और इसके बदले उन्हें कंपनी में शेयरहोल्डिंग  देती है।

आईपीओ के बारे में सर्च करते ही हमें ये जानकारी आराम से मिल जाता है।

जानकारी मिलने के बाद ही हम सोचने लगते हैं, आईपीओ के जरिए किसी कंपनी में शेयरहोल्डिंग ले लिया जाए।

मगर आईपीओ खरीदने के बारे में जब थोड़ा गहराई से सोचा जाता है, तो हमारे मन में एक सवाल आता है, कि आईपीओ खरीदने से मेरा क्या फायदा होगा?

और ये मानव व्यवहार हैं, हम किसी भी चीज को जानने के बाद ये जरूर सोचते हैं कि इससे फायदा क्या होगा? या फिर किस तरीके से फायदा उठाया जा सके?

और तो और बिजनेस फील्ड तो पूरे तरीके से फायदे के कॉन्सेप्ट पर ही बना हैं। आईपीओ इश्यू करने वाले और खरीदने वाले दोनों अपने अपने फायदे के बारे में सोचते हैं। आईपीओ इश्यू करने वाली कंपनी की तो बकायदा एक मैनेजमेंट टीम होती है, जो फायदे और नुकसान का आंकड़ा निकालती रहती है।

देखिएं कंपनियों का फायदा तो उन्हें उनकी मैनेजमेंट टीम खुद ही बता देती है, पर एक सामान्य व्यक्ति को तो काफी ज्यादा सोच -विचार करना पड़ता है।

हम एक सामान्य व्यक्ति के  नजरिए से बात करेंगे। आईपीओ के जरिए खरीदे गए शेयर्स से मिलने वाले कुछ मुख्य फायदे इस तरह हैं- 

1.शेयर मार्केट में जाने का मौका- आईपीओ में इनवेस्ट करके आप शेयर मार्केट में अपनी बेहतर उपस्थिति दर्ज करा सकते हैं। अगर आप स्टॉक मार्केट में इनवेस्ट करने के लिए सोच रहे हैं, तो आपके लिए सबसे बेहतर मौका आईपीओ होगा। मगर आईपीओ में इनवेस्ट करने से पहले आपको कुछ चीजों को जरूर ध्यान देना चाहिए जैसे- दूर की सोच की कंपनियों में ही इनवेस्ट करें, ज्यादा छोटी कंपनी में इनवेस्ट न करें, अच्छी मैनेजमेंट टीम वाली कंपनी में इनवेस्ट करें।

इन चीजों को ध्यान में रखकर अगर आप इनवेस्टमेंट करते हैं, तो आपको आईपीओ के जरिए और स्टॉक मार्केट के जरिए खूब फायदा होगा।

  1. कंपनी के फायदे में फायदा कमाने का मौका- दरअसल आईपीओ खरीदकर आप उस कंपनी में अपनी हिस्सेदारी दर्ज करते है, इसलिए यदि कंपनी को फायदा होगा तो आपके शेयरहोल्डिंग के फायदा में भी इजाफा होगा। वैसे ज्यादातर अच्छी कंपनियों में तो एक तरह से ज्यादा कमाने का कॉन्सेप्ट लागू हो जाता है।

उदाहरण- अमेजन के आईपीओ के वक्त खरीदे गए शेयर्स को अगर अब बेचा जाए तो वो 10 गुना से ज्यादा रिटर्न देगी।

  1. कंपनी में भागीदार बनने का मौका- आईपीओ के खरीदे गए उन शेयर्स से आप उस कंपनी के मूल यानि जड़ से जुड़ते हैं। कंपनी के उतार-चढ़ाव को लेकर आपको लगातार अपडेट रहने की जरूरत होगी। ठीक वैसे ही जैसे कंपनी के मालिक और प्रमोटर शेयर्स के दामों के उतार-चढ़ाव से जुड़े रहते हैं।
  2. प्राइवेट कंपनियों और स्टार्टअप्स में भागीदारी- आपको पहले ही बताया गया कि वहीं कंपनियां आईपीओ लाती है जो स्टॉक मार्केट में लिस्ट नहीं रहती यानि पब्लिक नहीं रहती।इस हिसाब से प्राइवेट कंपनियां और स्टार्टअप्स अपने-अपने आईपीओ लेकर आते है। इसलिए इन आईपीओ में इनवेस्ट करने से आप प्राइवेट और स्टार्टअप के पब्लिक होने के सफर में शामिल होते हैं।

वैसे कुछ आईपीओ के आने से पहले ही लोग काफी ज्यादा उत्सुक रहते हैं। जैसे- रिलायंस जियो। दरअसल मुकेश अंबानी ने जियो के 3rd एजीएम मीटिंग में अनाउंस किया है कि वे आने वाले 5 सालों में रिलायंस जियो और रिलायंस रिटेल का आईपीओ मार्केट में लेकर आएंगे।

अब आप भी जान चुके होगें कि आईपीओ खरीदने से क्या क्या फायदे होते हैं? तो देरी किस बात की।

आईपीओ खरीदिएं, इनवेस्टमेंट कीजिए और खूब पैसे बनाइएं।

By Adrija