Helicopter Money: सरकार ज्यादा पैसा छापकर गरीबों को क्यों नहीं बांटती?


बहुत से लोग यह सोचते हैं जिस देश के आर्थिक हालत बहुत ज्यादा खराब हैं वो क्यों बहुत से नोट छाप कर ग़रीबों में नहीं बाँट देते? इस समय कोरोना वायरस और Lockdown के कारण पूरे विश्व में लगभग हर देश की आर्थिक स्थिति लगातार खराब हो रही है और लोग गरीबी की तरफ बढ़ रहे हैं. इस समय भी बहुत से लोगों के मन में यह सवाल आता है कि क्यों सरकार इस स्थिति में खूब पैसा छाप कर लोगों को नहीं बांट सकती? लेकिन हम देखते हैं की कोई भी सरकार ऐसा नहीं करती है.

अगर कोई देश खूब सारा पैसा छाप कर लोगों में बांट दे तो उसे Helicopter money कहा जाता है. आज की इस पोस्ट में हम Helicopter money के बारे में विस्तार से बात करेंगे.

money

इसे ठीक से समझने के लिए एक Example लेते हैं. मान लिया एक छोटा सा देश है जहां की जनसंख्या केवल 100 हैं और वहां के लोगों के पास Total ₹50 लाख हैं. इस देश में अलग-अलग Shops और Show Rooms जैसे Two Wheeler Showroom जिसमें 10 गाड़ियाँ हैं, Four Wheeler Showroom जिसने 5 गाड़ियाँ हैं, एक Grocery store और एक Electronics Store है जहां पर TV, Fridge, Laptop, Fridge आदि मिलता है लेकिन इन सब चीजों का Limited stock ही है. इस देश की केवल कुछ ही लोग Two Wheeler Vehicles को Afford कर पाते हैं और उससे भी कम Four Wheeler Vehicles को Afford कर पाते हैं और इसी तरह से Consumer electronics को भी कुछ ही लोग Afford कर पाते हैं.

अब यह देश फैसला करता है कि वह और 50 लाख रुपए छाप कर सभी लोगों को बांट देगा. इसके बाद पूरी पॉपुलेशन के पास पैसा डबल हो जाएगा यानी 50 लाख से एक करोड़, अब लोगों के पास पैसा आने के बाद वह अलग-अलग चीजें जैसे Two Wheeler, Four Wheeler और Electronics Goods खरीदने निकल गए. उन लोगों के पास फ्री में आए इन पैसों के कारण इन चीजों की Demand बढ़ने लगी.

यहाँ के Two Wheeler Showroom में हर साल 10 ही गाड़ियाँ आती हैं क्योंकि वह हर साल 10 गाड़ियाँ ही sale कर पाते हैं लेकिन सभी लोगों के पास पैसा आने के बाद वो सभी Two Wheeler Showroom में पहुंच गए. इस वजह से Two Wheeler की Demand बढ़ गई लेकिन Two Wheeler की Supply उतनी ही रही यानी Supply 10 और खरीदने वाले 20 या 30 या उससे भी ज्यादा लोग और इस स्थिति में Demand बढ़ने से Price भी बढ़ जाता है यानी अब उन 30 लोग में से जो लोग सबसे ज्यादा Bids लगाएंगे उन्हें ही बाकी बची गाड़ियाँ मिल जाएंगी.

ऐसा ही Four Wheeler और  Electronics Goods के साथ भी हुआ. Demand बढ़ने से उनका Price भी बढ़ गया और इन सब चीजों के Price बढ़ने का कारण, लोगों के पास ज्यादा पैसा आने से इन वस्तुओं की Demand बढ़ना लेकिन Supply उतनी ही रहना है.

तो आइए समझते हैं क्या है Supply और Demand का खेल?

इस समय बहुत सारे देशों में Lockdown चल रहा है जिस वजह से इन देशों में कच्चे तेल की मांग बहुत कम हो गई है. कच्चे तेल की मांग 50% से भी कम हो चुकी है लेकिन अगर बात करें Oil producing देशों की तो उन्होंने ऑयल प्रोडक्शन की Supply बहुत ज्यादा कम नहीं करी है, उसमें केवल 10% की ही कमी की गई है. जिस वजह से कच्चे तेल की Supply बहुत ज्यादा बढ़ने और Demand बहुत ज्यादा कम होने से कच्चे तेल का Price गिर गया है. इसके विपरीत हमने जो Example दिया उसमें Demand बढ़ने और Supply कम रहने के कारण Price बढ़ गया और इसी वजह से Inflation आ गया यानी पैसे की Value कम होने लगी और महँगाई बढ़ने लगी. 

helicopter

इसका मतलब दिये गए Example में उस देश द्वारा पैसा छाप कर लोगों को बांटने का फायदा केवल तब होता जब वहाँ की सरकार इन Products जैसे Two wheeler, four wheeler और Electronic goods का Production भी दोगुना कर देती जिससे Supply और Demand Balance हो जाता और Inflation जैसी स्थिति नहीं आती.

इसका मतलब साफ है की अगर कोई देश बहुत ज्यादा Production कर रहा है और बहुत ज्यादा Service provide कर रहा है तभी वो बहुत ज्यादा पैसा प्रिंट कर सकता है क्योंकि अगर देश में वस्तुओं का बहुत ज्यादा Production नहीं हो रहा है और ज्यादा Commercial services भी Provide नहीं की जा रही है तो बहुत ज्यादा पैसा प्रिंट करना उस देश के लिए मुसीबत साबित हो जाता है.

तो किसी भी देश के लिए आगे बढ़ने के लिए केवल एक ही तरीका है की उसे ज्यादा से ज्यादा Production करना चाहिए, ज्यादा से ज्यादा Commercial services Provide करनी चाहिए और इसके बाद ही वह देश और वहां के लोग अमीर बन सकते हैं.

साल 2005 में African Country Zimbabwe ने कुछ ऐसा ही किया था. Zimbabwe का ना Production ज्यादा था ना ही Commercial services बेहतर थी. इसके बाद भी उन्होंने बहुत ज्यादा पैसा प्रिंट करके लोगों में बांट दिया. लोगों के पास बहुत ज्यादा पैसा आने के बाद दुकानों में भीड़ बढ़ने लगी. लोग अलग-अलग चीजें खरीदने की कोशिश करने लगे लेकिन खरीदार बहुत ज्यादा बढ़ गए और Supply उतनी ही रही जिस वजह से Inflation बढ़ने लगा और पैसे की Value तेजी से गिरने लगी. Zimbabwe का Inflation हजारों परसेंट से बढ़ने लगा और देश की स्थिति ऐसी हो गई कि उसे 10 ट्रिलियन डॉलर के नोट भी प्रिंट करने पड़े.

बहुत ज्यादा पैसा प्रिंट करने से लोगों के पास पैसा तो बहुत हो गया लेकिन उस पैसे की Value खत्म हो गई, तो यही कारण है कि कोई भी देश ज्यादा से ज्यादा पैसा प्रिंट कर अपनी Economic Condition को सही नहीं कर सकता है और ना ही गरीबी से बाहर आ सकता है. गरीबी से बाहर आने और अपनी Economic Condition को सुधारने का एक ही रास्ता है और वो है अपनी GDP को बेहतर करना यानी Products और Commercial services का Production बढ़ाना.

उम्मीद करते हैं कि अब आप जान गए होंगे की Helicopter Money का यह तरीका Practical नहीं है. अगर आपको यह जानकारी पसंद आयी तो इस पोस्ट को शेयर करना बिल्कुल ना भूलें, धन्यवाद।

By Amit